» Flood In Sangamnagari: Ganga 62 Cm Above Danger Mark And Yamuna 54 Cm – संगमनगरी में बाढ़ : गंगा खतरे के निशान से 62 और यमुना 54 सेमी ऊपर

  • Flood In Sangamnagari: Ganga 62 Cm Above Danger Mark And Yamuna 54 Cm – संगमनगरी में बाढ़ : गंगा खतरे के निशान से 62 और यमुना 54 सेमी ऊपर
    • Uncategorized / By Saqibsyedd / No Comments / 1 Viewers

    [ad_1]

    अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
    Published by: विनोद सिंह
    Updated Mon, 09 Aug 2021 11:12 PM IST

    prayagraj news : बाढ़ के पानी से छोटा बघाड़ा क्षेत्र में एक तल तक लोगों के घर डूब गए हैं।
    – फोटो : prayagraj

    ख़बर सुनें

    संगम नगरी में सोमवार को गंगा – यमुना खतरे के निशान से आधा मीटर से ऊपर बहने लगी। इससे रिहायशी इलाकों की ओर बाढ़ का पानी घुसने लगा। यही हाल रहा तो मंगलवार तक तटीय इलाकों में हालात और बिगड़ जाएंगे। रात आठ बजे गंगा खतरे के निशान से 62 सेमी और यमुना 54 सेमी ऊपर पहुंच गईं। फिलहाल दोनों नदियां दो सेमी प्रतिघंटा की रफ्तार से बढ़ रही हैं।

    बाढ़ से हालात चिंताजनक होते जा रहे हैं। तटवर्ती इलाके की बड़ी आबादी बाढ़ से प्रभावित हो गई है। सोमवार को शहरी इलाकों की ओर बाढ़ का रुख होने से लोगों के दिलों की धड़कनें तेज हो गईं। हालांकि इस दिन माताटीला से यमुना में पानी नहीं छोड़ा गया। कानपुर बैराज से भी गंगा में पानी नहीं छोड़ा गया।
    इससे अगले 24 घंटे में यमुना का वेग रुकने की बात कही जा रही है। सिंचाई बाढ़खंड के एक्सईएन ब्रजेश कुमार सिंह ने बताया कि यमुना की रफ्तार घटने लगी है। रात 10 बजे के बाद 1.50 सेमी प्रतिघंटा की रफ्तार से यमुना का जलस्तर बढ़ रहा था। एक्सईएन का कहना है कि अगर फिर बारिश नहीं हुई और बांधों से पानी नहीं छोड़ा गया तो मंगलवार तक यमुना का वेग थम सकता है।

    • बाढ़ कंट्रोल रूम नंबर: 0532-2641577, 264157
    • बाढ़ नियंत्रण प्रभारी उपजिलाधिकारी सदर- 9454417814

    विस्तार

    संगम नगरी में सोमवार को गंगा – यमुना खतरे के निशान से आधा मीटर से ऊपर बहने लगी। इससे रिहायशी इलाकों की ओर बाढ़ का पानी घुसने लगा। यही हाल रहा तो मंगलवार तक तटीय इलाकों में हालात और बिगड़ जाएंगे। रात आठ बजे गंगा खतरे के निशान से 62 सेमी और यमुना 54 सेमी ऊपर पहुंच गईं। फिलहाल दोनों नदियां दो सेमी प्रतिघंटा की रफ्तार से बढ़ रही हैं।

    [ad_2]

    Source link

    About thr author : Saqibsyedd

    leave a comment

      Your email address will not be published. Required fields are marked *

    • You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>