Kalyan Singh Had Challenged The Mafia From Banaras, Sent Rajnath Singh For A State Tour – कल्याण सिंह ने माफियाओं को बनारस से ललकारा था, राजनाथ सिंह को प्रदेश दौरे के लिए किया था रवाना 

[ad_1]

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी
Published by: उत्पल कांत
Updated Sun, 22 Aug 2021 12:23 AM IST

सार

कल्याण सिंह ने पुलिस से कहा था मानवाधिकार के सवालों से घबराने की जरूरत नहीं है। माफिया है तो उसे गोली मारो। नकल अध्यादेश का काशी में काफी स्वागत किया गया था।

वाराणसी में पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के साथ लालजी टंडन (बाएं) और अमर नाथ यादव (दाएं)। (फाइल फोटो )

ख़बर सुनें

भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह का बनारस से काफी पुराना रिश्ता रहा है। मलदहिया चौराहे पर हुई सभा में कल्याण सिंह ने माफियाओं को ललकारा था। उनके साथ के लोगों के अनुसार वे काफी मिलनसार और कार्यकर्ताओं काफी सम्मान करते थे। जब विधायक कृष्णानंद राय की हत्या हुई थी। उस समय वे भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे। 

कल्याण सिंह और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जिला मुख्यालय पर आए थे। यहां पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह धरने पर बैठे थे। उन्होंने समझाकर राजनाथ सिंह को पूरे प्रदेश का दौरा करने के लिए बस से रवाना किया था। कल्याण सिंह का बनारस आना जाना लगा रहता था। खोजवां निवासी पूर्व सिंचाई मंत्री ओमप्रकाश सिंह से उनके पारिवारिक रिश्ते रहे हैं। वहां पारिवारिक कार्यक्रम में अक्सर आया जाया करते थे। 

भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने बताया कि बाबूजी की देन है कि आज मैं यहां तक पहुंचा हूं। उनके कार्यकाल में अपराधियों के अंदर खौफ था। पुलिस को खुली छूट थी। उनके कार्यकाल में कई इनकाउंटर हुए। अपराधी प्रदेश छोड़कर दूसरे जगहों पर चले गए। बनारस से ही उन्होंने माफियाओं को चुनौती दी थी। विधायक मुख्तार अंसारी और राजा भैया जैसे बाहुबली पर शिकंजा कस गया था। 

भाजपा के प्रवक्ता अशोक पांडेय ने कहा कि कल्याण सिंह ने पुलिस से कहा था मानवाधिकार के सवालों से घबराने की जरूरत नहीं है। माफिया है तो उसे गोली मारो। नकल अध्यादेश का काशी में काफी स्वागत किया गया था। शोक जताने वालों में क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश चंद्र श्रीवास्वत, विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, सौरभ श्रीवास्तव, मनीष कपूर, नवीन कपूर आदि शामिल रहे। 

कुलपति ने जताया शोक
कल्याण सिंह के निधन पर संपूर्र्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति ने शोक जताया है। कुलपति प्रो. हरेरराम त्रिपाठी ने कहा कि यह संस्था और संपूर्ण राष्ट्र की अपूरणीय क्षति है। इस रिक्तता को भरना बहुत कठिन होगा। आज हम सभी अत्यंत दुखी और मर्माहत हैं।

जननेता थे कल्याण सिंह : अजय राय
कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय ने पूर्व मुख्यमंत्री को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि कल्याण सिंह जननेता था। आज देश से एक जननेता चला गया। उन्होंने पार्टी को जमीन से उठाकर एक नया मुकाम दिया था। भाजपा उनकी भी सगी नहीं हुई। 

डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने किया ट्वीट
कल्याण सिंह के निधन पर अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष डा. प्रवीण भाई तोगड़िया ने ट्वीट किया। कहा कि राममंदिर आंदोलन के एक त्यागी हिंदू चले गए। राममंदिर के लिए सीएम की कुर्सी त्यागी, राममंदिर के आगे सत्ता का मोह नहीं रखा। किसी कारसेवक पर गोली नहीं चलने दी थी। राममंदिर निर्माण में कल्याण सिंह की भूमिका रही। 

विस्तार

भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह का बनारस से काफी पुराना रिश्ता रहा है। मलदहिया चौराहे पर हुई सभा में कल्याण सिंह ने माफियाओं को ललकारा था। उनके साथ के लोगों के अनुसार वे काफी मिलनसार और कार्यकर्ताओं काफी सम्मान करते थे। जब विधायक कृष्णानंद राय की हत्या हुई थी। उस समय वे भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे। 

कल्याण सिंह और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जिला मुख्यालय पर आए थे। यहां पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह धरने पर बैठे थे। उन्होंने समझाकर राजनाथ सिंह को पूरे प्रदेश का दौरा करने के लिए बस से रवाना किया था। कल्याण सिंह का बनारस आना जाना लगा रहता था। खोजवां निवासी पूर्व सिंचाई मंत्री ओमप्रकाश सिंह से उनके पारिवारिक रिश्ते रहे हैं। वहां पारिवारिक कार्यक्रम में अक्सर आया जाया करते थे। 

भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने बताया कि बाबूजी की देन है कि आज मैं यहां तक पहुंचा हूं। उनके कार्यकाल में अपराधियों के अंदर खौफ था। पुलिस को खुली छूट थी। उनके कार्यकाल में कई इनकाउंटर हुए। अपराधी प्रदेश छोड़कर दूसरे जगहों पर चले गए। बनारस से ही उन्होंने माफियाओं को चुनौती दी थी। विधायक मुख्तार अंसारी और राजा भैया जैसे बाहुबली पर शिकंजा कस गया था। 

[ad_2]

Source link

Reply